https://khulasafirst.com/images/8bccbd4349e5b69f665c43b6f89c41ff.jpg

Hindi News / indore / Poison mixed in the elixir of freedom

आजादी के अमृत महोत्सव में घोला जहर : वंदे मातरम् पर 'कमाल' और 'लाल' का बवाल

16-08-2022 : 02:52 pm ||

बीते साल 15 अगस्त को राजवाड़ा पर सजे आजादी जश्न के मंच से वंदे मातरम् बोलने वाली लड़की को धक्का मारकर नीचे उतारने वाले भाजपा नेता कमाल खान और उसके बेटे ने इस बार भी 15 अगस्त को वंदे मातरम् को लेकर बवाल खड़ा कर दिया। पहले बाप कमाल खान ने वंदे मातरम् पर आपत्ति ली और जब जनता के विरोध से घिरा गए तो बेटों को फोन कर दिया। खुद तो मौके से माफी मांगकर पुलिस सुरक्षा में भाग खड़ा हुआ। 


खुलासा फर्स्ट… इंदौर

मौके पर हथियारों के साथ पहुंचे बेटे ने हंगामा कर निर्दोष लोगों के साथ मारपीट शुरू कर एक युवक को चाकू मार दिया। आसपास के रहवासी जमा हुए तो साथ आए हथियारबंद लोग भाग खड़े हुए। रहवासियों ने कमाल खान के बेटे माज को पकड़कर पंढरीनाथ थाने में पुलिस के हवाले कर दिया। खबर लगते ही हिंदू संगठनों ने पहले छत्रीपुरा थाना और बाद में पंढरीनाथ थाने का घेराव कर दिया। वहीं दूसरी ओर भाजपा नेता ललित पोरवाल को 15 अगस्त का जश्न भारी पड़ गया। वे अपने समाज के आयोजन में झंडावंदन करने कमाल खान को लेकर गए। कार्यक्रम छत्रीबाग स्थित जांगड़ा पोरवाल समाज धर्मशाला में था।


प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक यहा वंदे मातरम् का जयघोष हो रहा था। कमाल खान ने इसके लिए एक युवा को फटकार दिया। वह आरएसएस का स्वयंसेवक था और शाखा कार्यवाह भी था। शाखा कार्यवाह से बदसलूकी की खबर जैसे ही अन्य लोगों को लगी वे भी कार्यक्रम स्थल पर पहुंच गए। मामला गरमा गया और मौके पर हाथ-पैर भी चले। इसके बाद दोनों नेताओं को स्वयंसेवकों के गुस्से से बचने के लिए कमाल खान को कमरे में बंद करना पड़ा। बाद में पोरवाल ने माइक पर आकर माफी मांगी। मौके पर पुलिस भी पहुंच गई, जैसे-तैसे दोनों नेता को पुलिस बल ने मौके से निकाला।


कमाल को भाजपा का संरक्षण, गुस्से में आरएसएस 

वंदे मातरम् पर आपत्ति पर विवाद... कमाल के बेटे का हथियारों के साथ हमला


खुलासा फर्स्ट में प्रमुखता 

से प्रकाशित खबरें


आरएसएस के स्वयंसेवक के साथ बदसलूकी पर थाना घेरा

ललित पोरवाल और कमाल खान को जनता ने घेरा, माफी मांगना पड़ी, पुलिस सुरक्षा में छत्रीबाग से बाहर निकला कमाल

बीते साल 15 अगस्त पर राजवाड़ा पर सजे आजादी के जश्न के मंच से वंदे मातरम् बोलने वाली लड़की को धक्का मारकर नीचे उतारने वाले भाजपा नेता कमाल खान और उसके बेटे ने इस बार भी 15 अगस्त को वंदे मातरम् को लेकर बवाल खड़ा कर दिया। पहले बाप कमाल खान ने वंदे मातरम् पर आपत्ति ली और जब जनता के विरोध से घिरा गए तो बेटों को फोन कर दिया। खुद तो मौके से माफी मांगकर पुलिस सुरक्षा में भाग खड़ा हुआ, बाद में मौके पर हथियारों के साथ पहुंचे बेटे ने हंगामा किया और निर्दोष लोगों के साथ मारपीट शुरू कर एक को चाकू भी मार दिया। आसपास के रहवासी जमा हुए तो साथ आए हथियबंद लोग भाग खड़े हुए।


कमाल खान के बेटे माज को पकड़कर रहवासियों ने पंढरीनाथ पुलिस के हवाले कर दिया। घटनाक्रम का केंद्र छत्रीबाग रहा। खबर लगते ही पहले छत्रीपुरा थाना और बाद में पंढरीनाथ थाना का हिंदू संगठनों ने घेराव कर दिया। स्वयंसेवक के साथ कमाल खान द्वारा बदसलूकी और बाद में बेटे माज द्वारा बहुसंख्यक इलाके में हथियारों के साथ जाकर मारपीट करने की घटना ने भगवा ब्रिगेड को गुस्से से भर दिया है। आरएसएस कमाल खान को भाजपाई संरक्षण को लेकर नाराज है। अब हिंदू संगठनों ने कमर कस ली है कि जब तक कमाल खान और उसके बेटों द्वारा राजबाड़ा स्थित प्राचीन महालक्ष्मी मंदिर से कब्जा नहीं हटाया जाता तब तक आंदोलन किया जाएगा।


भाजपा के बड़े नेता ललित पोरवाल को 15 अगस्त का जश्न भारी पड़ गया। वे अपने समाज के आयोजन में झंडावंदन करने पहुंचे थे, साथ में भाजपा नेता कमाल खान को बतौर अतिथि लेकर गए। कार्यक्रम छत्रीबाग स्थित जांगड़ा पोरवाल समाज धर्मशाला में था। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक यहा वंदे मातरम् का जयघोष हो रहा था। कमाल खान ने इसके लिए एक युवा को फटकार दिया। वह आरएसएस का स्वयंसेवक था और शाखा कार्यवाह भी था। शाखा कार्यवाह से बदसलूकी की खबर जैसे ही अन्य को लगी वे भी कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। मामला गरमा गया और मौके पर हाथ-पैर भी चले। इसके बाद दोनों नेताओं को स्वयंसेवको के गुस्से से बचने के लिए कमाल खान को कमरे में बंद करना पड़ा, बाद में पोरवाल समाज के वरिष्ठों ने बीच बचाव किया, लेकिन स्वयंसेवक माफी मांगने पर अड़ गए, बाद में पोरवाल ने माइक पर आकर माफी मांगी। मौके पर पुलिस भी पहुंच गई और जैसे-तैसे दोनों नेताओं को पुलिस बल ने मौके से निकाला।


बाप के जाते ही हथियारों के साथ बेटा माज पहुंचा छत्रीबाग 

स्वयं को कमरे में बंद कर जान बचाने वाले भाजपा नेता कमाल खान को बचाकर पुलिस सुरक्षा के बीच छत्रीबाग स्थित जांगड़ा पोरवाल समाज धर्मशाला से निकालकर तो ले गई, लेकिन पिता के घिराने की सूचना लगते ही बेटा माज खान साथियों के साथ हथियारों से लैस होकर मौके पर पहुंच गया। यहां गलियां देते हुए लोगों से धर्मशाला का पता पूछने लगा। विरोध करने पर गुंडे माज के साथ आए बदमाशों ने लोगों से मारपीट शुरू कर दी, जिसके बाद संगठन ने थाने पर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। पुलिस ने राहुल पिता अर्जुन राठौर निवासी राजस्व ग्राम छत्रीबाग की शिकायत पर माज खान और अन्य साथियों पर विभिन्न धाराओं मेें केस दर्ज किया है। माज को घेरने से पहले संगठन के किसी व्यक्ति ने उसको पहचान लिया। हथियारों से लैस होकर आए बदमाशों की घेराबंदी करना शुरू कर दी। कुछ शातिर बदमाश भाग गए, लेकिन माज और उसके दो साथी घिरा गए। रहवासियों ने उनकी जमकर खबर ली। माज खुद को अमन अग्रवाल बताकर बचकर भागने की कोशिश करने लगा। इस दौरान उसकी तलाशी में चाकू मिला, इसके बाद उसे चाकू के साथ पंढरीनाथ पुलिस को सौंप दिया।  संगठन के कार्यकर्ताओं पर हमले की सूचना लगते ही आरएसएस, विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल और हिंदू जागरण मंच के तमाम नेताओं सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने छत्रीपुरा और पंढरीनाथ थाना घेर दिया। इस दौरान कमाल खान के राजवाड़ा स्थित महालक्ष्मी मंदिर के बाहर के अतिक्रमण और उसके बेटे की गुंडागर्दी के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की गई। इसका मुख्य कारण राजवाड़ा स्थित महालक्ष्मी मंदिर परिसर के पास दुकान लगाकर अतिक्रमण किया हुआ है, जो दर्शनार्थियों के लिए समस्या बना हुआ है। 



निगम अधिकारियों को गर्दन काटने की दी थी धमकी, अब तक फरार

मंदिर के पास से कुछ महीने पहले अतिक्रमण हटाने गई नगर निगम की टीम के साथ अभद्रता करते हुए अधिकारियों को पुलिस के सामने माज खान और सरताज खान ने गर्दन काटने और जान से मारने की धमकी दी थी। इसके बाद निगम अफसरों ने सराफा थाने पहुंचकर फरियादी राजेश पिता जानकीलाल शर्मा की शिकायत पर माज पिता कमाल खान पर केस दर्ज किया था। इस पर आज तक कोई करवाई नहीं हुई। मामले में घटना दिनांक से ही आरोपी फरार था और कल छत्रीबाग में फिर हथियारबंद गैंग के साथ हमला किया।


All Comments

No Comment Yet!!


Share Your Comment


टॉप न्यूज़