https://khulasafirst.com/images/018b0c44750c0bcd6aa1df6cb8d422c9.png

Hindi News / mahakalsena / Offer butter and ghee to Mata Shailputri

माता शैलपुत्री को लगाए मक्खन और घी प्रसादी का भोग : आज से नौ दिनों तक होगी मां आिदशक्ति की उपासना

26-09-2022 : 04:22 pm ||

खुलासा फर्स्ट… इंदौर

हिंदू धर्म में शारदीय नवरात्रि के त्योहार का विशेष महत्व होता है। सोमवार से शारदीय नवरात्रि 2022 की शुरुआत हो रही है। नवरात्रि में मां दुर्गा के 9 अलग-अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है। ऐसे में कौन-कौन से माता के प्रिय भोग हैं, जिन्हें लगाकर जातक उन्हें प्रसन्न कर सकते हैं, इसके बारे में पंडित विष्णु राजोरिया ने बताया कि पहला दिन शैलपुत्री का होता है। माता शैलपुत्री को हर रोज अलग-अलग प्रसाद या भोग लगते हैं।माता को पहले दिन ताजा मक्खन और घी का प्रसाद लगाना चाहिए। घी को रोगों से मुक्ति का कारक भी माना जाता है। इससे मनुष्य के सभी रोग नष्ट हो जाते हैं।


कलश स्थापना का मुहूर्त 

शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर से लेकर 4 अक्टूबर तक मनाया जाएगा। इसकी शरुआत प्रतिपदा तिथि को अखंड ज्योति और कलश स्थापना के साथ होती है। 26 सितंबर को सुबह 6 बजकर 28 मिनट से लेकर 8 बजकर 1 मिनट तक कलश स्थापना कर सकेंगे। घटस्थापना के लिए साधकों को पूरा 1 घंटा 33 मिनट का समय मिलेगा। इस दिन सुबह 11 बजकर 54 मिनट से लेकर 12 बजकर 42 मिनट तक अभिजीत मुहूर्त रहेगा। यानी अभिजीत मुहूर्त में भी आपको कलश स्थापित करने के लिए 48 मिनट का समय मिलेगा। जबकि शाम को 4.15 से 5.44 और रात्रि में 7.15 से 10.53 तक कलश स्थापित किया जा सकता है।


नक्षत्र: हस्त नक्षत्र पूर्ण रात्रि तक

राशि: कन्या राशि पूर्ण रात्रि तक.शुभ चौघड़िया मुहूर्त दिन

अमृत: प्रातः 06:09 से 07:39 प्रातः तक.

शुभ: प्रातः 09:09 से 10:40 प्रातः तक.

चर सामान्य: दोपहर 01:40 से 03:11 दोपहर तक.

लाभ: दोपहर 03:11 से 04:41 शाम तक.

अमृत: शाम 04:41 से 06:12 शाम तक.


शुभ चौघड़िया मुहूर्त रात्रि

चर सामान्य: शाम 06:12 से 07:41 रात तक.

लाभ: रात 10:41 से 12:10 रात तक.

शुभ: रात 01:40 से 03:10 रात तक.

अमृत: रात 03:10 से 04:39 रात तक.

चर सामान्य: रात 04:39 से 06:09 दूसरे दिन प्रातः तक.अभिजीत मुहूर्त: दिन के 11:46 से 12:34 दोपहर तक.

आज का शुभ अंक: 2, 4, 6, 8.


बिजासन माता का आकर्षक शृंगार, दर्शन के लिए उमड़े भक्त

शहर के प्रसिद्ध बिजासन माता मंदिर पर नवरात्रि के पहले दिन सुबह से ही बड़ी संख्या में भक्तों का मेला लगना शुरू हो गया। मंदिर के पुजारी पं. अशोक वन ने बताया कि सुबह माताजी की विशेष पूजा-अर्चना के साथ महाआरती हुई। इसके साथ ही मंदिर पर नौ दिनी मेला शुरू हो गया। 


मां कनकेश्वरी गरबा महोत्सव 

राम राजा मंदिर की प्रतिकृति में विराजेंगी भगवती

नगर के सबसे बड़े मां कनकेश्वरी गरबा महोत्सव में ओरछा के राम राजा मंदिर की प्रतिकृति में मां दुर्गा विराजेंगी। आयोजन प्रमुख विधायक रमेश मेंदोला ने बताया बंगाली कलाकार उदय राय सहित अन्य सहयोगियों ने 20 दिन में धाम की 70 बाय 61 फीट प्रतिकृति बनाई है7 इसमें मां दुर्गा की 15 फीट ऊंची मूर्ति स्थापित होगी।


महोत्सव में 9 दिनों तक मां दुर्गा की आराधना होगी। हवन-पूजन-अर्चन होगा। प्रतिदिन रात्रि 7 बजे से तकरीबन 6 हजार से ज्यादा लड़कियां मनमोहक गरबो की प्रस्तुति देंगी। विशेष रुप से बैठक व्यवस्था की गई है, जिसमें हजारों लोग बैठ सकेंगे। प्रतिदिन महामंडलेश्वर मां कनकेश्वरी देवी भजन प्रस्तुति देंगी। उनके भजनों पर हजारों लड़कियां गरबा करेंगी। प्रतिदिन मां कनकेश्वरी देवी  21 कन्याओं का पाद पूजन करेंगी। मुंबई के गायक कलाकार नीतेश सेठी म्यूजिकल ग्रुप भी भजन प्रस्तुति देेगा। गुजरात के कलाकार भी रहेंगे।


कालका माता का किया आकर्षक श्रृंगार, भक्तों का लगा तांता

मिल क्षेत्र स्थित कालका माता मंदिर में नवरात्रि के पहले भक्तों की खासी भीड़ नजर आई। सुबह आरती के दौरान सैकड़ों भक्त शामिल हुए, बल्कि दर्शन-पूजन करने वालों भक्तों का तांता लगा हुआ था। नवरात्रि के पहले माता का आकर्षक श्रृंगार भी किया गया।


युवक-युवतियों ने प्रैक्टिस कर जमाया गरबा का रंग 

नौ दिनी शारदीय नवरात्रि पर्व की शुरुआत सोमवार से हो गई है। इससे पहले युवक-युवतियां गरबा की तैयारियों में जुटे थे। हिंद रक्षक गरबा मंडल द्वारा दशहरा मैदान में युवक-युवतियों को प्रैक्टिस करवाई गई। जहां युवाओं में खासा उत्साह नजर आया। अब नौ दिन तक गरबों का उल्लास छाया रहेगा।


All Comments

No Comment Yet!!


Share Your Comment


टॉप न्यूज़