https://khulasafirst.com/images/8bccbd4349e5b69f665c43b6f89c41ff.jpg

Hindi News / indore / Now familyism will not work in politics corruption in the country and state

अब राजनीति में नहीं चलेगा परिवारवाद, देश-प्रदेश में भ्रष्टाचार : पंतप्रधान का ऐलान...

16-08-2022 : 03:26 pm ||

खुलासा फर्स्ट… इंदौर

भाजपा में अपने बेटे-बेटियों बहुओं और पत्नी को चुनाव लड़ाने का मंसूबा बनाने वाले सभी बड़े नेता खबरदार हो जाएं और वो लोग भी सावधान हो जाएं जो कोरोमा डेम जैसे भ्रष्टाचार में शामिल हैं। जिनकी पैसे की भूख 18 हजार जिंदगियों और हजारों पशुधन को निगल जाती।  देश के पंतप्रधान नरेंद्रभाई मोदी ने आजादी के अमृत महोत्सव के तहत लाल किले की प्राचीर से राजनीति में परिवारवाद के खिलाफ  सिंह गर्जना की।


उन्होंने कहा परिवारवाद की राजनीति ने देश के सामर्थ्य पर सबसे बड़ी चोट की है और इसे अब स्वीकार नहीं किया जाएगा। इससे देश का बहुत नुकसान हुआ। पंत प्रधान ने कहा कि परिवारवाद के कारण प्रतिभाशाली पीछे रह जाता है। इस मानसिकता से मुक्ति का वक्त आ गया है, देश को इससे मुक्त कराना होगा। इससे देश की प्रतिभा और सामर्थ्य को नुकसान होता है, जिनके पास अवसर हैं वे पीछे रह जाते हैं। परिवारवाद भ्रष्टाचार का एक प्रमुख कारण बनता है। उन्होंने कहा कि परिवारवाद के खिलाफ नफरत पैदा करना होगी। देश के सामर्थ्य का सबसे ज्यादा नुकसान इसी परिवारवाद ने किया। इसका देश की भलाई से कोई लेना-देना नहीं। बस परिवार की भलाई ही इसका मकसद रहता है।


परिवारवादी मानसिकता से मुक्ति का संकल्प लें...

मोदी ने कहा कि आज लाल किले से देश के झंडे के नीचे खड़े रहकर हम संकल्प लें कि राजनीति के शुद्धिकरण के लिए देश को परिवारवादी मानसिकता से मुक्ति दिलाएंगे। कोई भी युवा इस कुंठा में नहीं रहेगा कि उसका कोई चाचा, दादा, नाना-नानी, मां, भाई, पिता नहीं है इसलिए उसे अवसर नहीं मिला। परिवारवादी राजनीति के खिलाफ लड़ाई में देश के मुखिया ने देशवासियों का साथ मांगा।


( हाल ही नगरीय निकाय चुनाव में प्रधानमंत्री मोदी की परिवारवाद के खिलाफ मुहिम को घोलकर पी जाने वाली प्रदेश भाजपा के लिए लाल किले से गूंजे ये शब्द शायद कोई गैरत पैदा करे। निकाय चुनाव में चले जमकर भाई भतीजावाद, परिवारवाद ने नेताओं के हौसले बड़ा दिए थे कि मोदी तो बोलते रहेंगे, 2023 में भी ये ही होगा। अब लाल किले से बोला है मोदीजी ने। देखते हैं वे अपने ही दल में इसका कितना अमल करवा पाते हैं।)


भ्रष्टाचार देश को खोखला कर रहा

आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर प्रधानमंत्री ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी सरकार की लड़ाई को सबसे ऊंचाई पर रखा। उन्होंने कहा भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के लिए हमने निर्णायक कालखंड में कदम रख दिया है। यहां भी उन्होंने परिवारवाद को जिम्मेदार बताया कि इसके कारण करप्शन बढ़ता है। भ्रष्टाचार को गंदगी से भी जोड़ दिया की इससे वैसे ही घृणा करें जैसे गंदगी से करते हैं। देश की जनता से भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए साथ मांगते हुए पंत प्रधान ने कहा ये देश को खोखला कर रहा है। इसलिए कोई कितना भी बड़ा व्यक्ति होगा, बख्शा नहीं जाएगा, जिन्होंने देश को लूटा है, उन्हें लौटाना होगा। (कोरोमा डेम से दहशत में आए “सत्ताधीश” तीन दिन से एक बात, बार बार दोहरा रहे हैं कि इस मामले में प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से नियमित संपर्क में हैं। इसके मायने साफ हैं निमाड़ के धामनोद के पास ही बांध नहीं फूटा है, बल्कि एमपी में भ्रष्टाचार का बांध भी फूट गया और सरकार-अफसर-ठेकेदारों की काली कमाई का सैलाब बह निकला है, जो दूर दिल्ली तक नजर आ रहा है। प्रदेश में अफसरशाही के सिरमौर होने का ओवरफ्लो भी उजागर हो गया है। आपदा को इवेंट में तब्दील करने वाली गाद भी बहकर बाहर आ गई। अब नरेन्द्रभाई की दिल्ली सरकार, एमपी की सरकार को लेकर क्या स्टैंड तय करती है...लाल किला पूछेगा अगले बरस…) 


All Comments

No Comment Yet!!


Share Your Comment


टॉप न्यूज़