https://khulasafirst.com/images/eceb0ef7616e803d2e768e2be8e121f2.jpg

Hindi News / indore / Best wishes to the friend of the city

शहर के मित्र को शुभकामनाएं... : नई सरकार का गठन आज

05-08-2022 : 01:10 pm ||

भगवती देवी कामाख्या से यही प्रार्थना है कि वे भार्गव और उनकी नई टीम का शुभ-मंगल करें... साथ ही विरोधियों से भी सावधान करें...


भगवती देवी मां कामाख्या इंदौर के नवनिर्वाचित महापौर पुष्यमित्र भार्गव की आराध्या देवी हैं


खुलासा फर्स्ट… इंदौर

भगवती देवी कामाख्या पुष्यमित्र भार्गव की आराध्या हैं। उनकी कृपा से ही इंदौर की जनता ने भार्गव को जीत का वरदान दिया है। भगवती देवी कामाख्या से यही प्रार्थना है कि वे भार्गव और उनकी नई टीम का शुभ-मंगल करें। साथ ही समय-समय पर सामने आने वाले विरोधियों से भी सावधान करें, ताकि जनता के मित्र के सान्निध्य में इंदौर स्वच्छता के साथ विकास की नई ऊंचाइयों को छू सके।


शुभ

पावन पुनीत सावन मास। उस पर शुक्ल पक्ष। शुक्रवार। अष्टमी तिथि। शुभ हो आपके लिए। इस शहर के लिए। आज पुष्यमित्र जी आपकी शपथ है। अनंत शुभकामनाएं।


मंगल

नई पारी-नई परिषद के मंगलाचरण के साथ इस शहर का शुभ के साथ मंगल भी हो। कार्यकाल ही मंगलमय न हो, हर दिन मंगल हो।


सावधान

सावधान...!!! जी हां, आपको शुभ मंगल से ज्यादा सावधान रहना होगा। उन लोगों से, जो अभी आपके कुर्सी पर बैठने से पहले आपकी "घेराबंदी’ में जुट गए हैं।


शुभ... मंगल... सावधान...

नए महापौर और उनकी टीम की ताजपोशी आज

नगर सरकार का शपथ समारोह। नए महापौर की ताजपोशी। 85 पार्षदों के कार्यारंभ का दिन। शहर के प्रिय मित्र-पुष्यमित्र और उनकी टीम से बहुत सारी उम्मीदें। ढेर सारे सपने। कुछ नया होने की आस। कुछ नया देखने का उत्साह। नगर सरकार की नई टीम इंदौर का नाम-काम देश दुनिया में करे। शहर की जनता आपको शुभकामनाएं देती हैं। आपके मंगल की कामना करती है, लेकिन आपको सावधान भी करती है। शेष आप स्वयं समझदार हैं। परम् शक्ति पीठ कामाख्या और आपकी आराध्या भगवती देवी कामाख्या आपका शुभ करें।


शुभ :

पावन पुनीत सावन मास। उस पर शुक्ल पक्ष। शुक्रवार। अष्टमी तिथि। शुभ हो आपके लिए। इस शहर के लिए। आज पुष्यमित्र जी आपकी शपथ है। अनंत शुभकामनाएं। इस शुभ दिवस की। ये दिन आपके लिए शुभ हो। आज से आपकी पारी का शुभारंभ हो रहा है। अहिल्या नगरी के लिए भी ये पल शुभ है। नया नेतृत्व। नई सोच। नए सपने। नई परिषद। नए लोग। युवा जोश। जज्बा। पक्ष-विपक्ष सब। इस शहर का सब मिलकर शुभ करे। ऐसी मंगलकामनाएं भी। आपकी निगम परिषद में शुभ भाव का आविर्भाव बना रहे। आपकी एमआईसी शुभभाव से कर्मरत रहे। सदन-सदस्य-सभापति में शुभ समन्वय बना रहे। वैसा क्लेश न उपजे, जैसा बीती निगम परिषद में पैदा हो गया था। शहर के विकास को लेकर आपके विजन को स्वीकार्यता मिले। दिल्ली-भोपाल का साथ ही नहीं, संबल भी मिले। आपका दल ही नहीं, विपक्ष भी दलीय गुटबाजी से दूर रहे। विपक्ष-विरोधी आवाज को भी मुखरता मिले। केवल विरोध के लिए विरोध की राजनीति का सामना न हो। अंतर्विरोध के शोर के बजाय, शहर के शुभ को लेकर पक्ष विपक्ष का समवेत स्वर निगम प्रांगण से बाहर शहर में गूंजे। दो ज्योतिर्लिंग के बीच स्थित पुण्य श्लोका प्रातः स्मरणीय लोकमाता अहिल्याबाई के इस शहर पर कभी कोई बड़ी विघ्न बाधा न आए। किसी त्रासदी से सामना न शहर का हो..न आपका..न आपकी टीम का। सब शुभ हो।


मंगल :

नई पारी-नई परिषद के मंगलाचरण के साथ इस शहर का शुभ के साथ मंगल भी हो। कार्यकाल ही मंगलमय न हो, हर दिन मंगल हो। शहर को वो सब सौगात मिले, जिसके सपने नगर सरकार के चयन के समय इस शहर के बाशिंदों को दिखाए गए थे। मेट्रो ट्रेन से लेकर फ्लाईओवर ब्रिज और निगम अमले में नई नियुक्तियों से इंदौर को छठी बार सफाई में सिरमौर बनाने तक के कार्य मंगलमय तरीके से पूरे हो। आपने जो “अहर्निश’ सेवा का संकल्प लिया है, यानी दिन रात कार्य करने का... वैसी मंगल कार्यप्रणाली अमले और अफसरों में भी विकसित हो। शहर के बेतरतीब ट्रैफिक नई परिषद के प्रयासों से मंगलमय हो जाए। कचरा प्रबंधन की गति कायम रहे। शहर के बाशिंदों की सफाई की गति कायम रहे। सड़क पर, फुटपाथ पर, ठेले पर, छबड़ी पर समान बेचने वालों का मंगल हो… उनका सम्मान बना रहे। कोई ठोकरों में उनकी रोजी रोटी को नहीं रखे। मंगल बुद्धि उस अमले को भी मिले जो “पीली गैंग’ के नाम से शहरभर में बदनाम हुआ और निगम की उपलब्धियों से ज्यादा उसकी चर्चा रही। उन अधिकारियों को भी मंगल करने का जज्बा मिले, जिनकी “नायाब इंजीनियरिंग’ ने शहर का मंगल कम, अमंगल ज्यादा किया। उन साहब बहादुरों की सोच भी मंगल हो, जिनकी प्लानिंग इस शहर को रत्तीभर पानी में पानी-पानी कर रही है। इस अमले को भी मंगल बुद्धि मिले, जो “मंगलमूर्ति’ को कचरा गाड़ी में भर लेता है और सम्मानपूर्वक विदा करना भूल जाता है। उन हाथों को मंगल शक्ति मिले, जो अलसुबह से लेकर आधी रात तक झाड़ू उठाए रहते हैं और इस शहर को लगातार 5 बार देश में सर्वश्रेष्ठ कर चुके हैं। मंगल बुद्धि इस शहर के बाशिंदों को भी मिले। समय पर टैक्स ही नहीं, ट्रैफिक सेंस भी जागृत हो। 



सावधान :

सावधान...!!! जी हां, आपको शुभ मंगल से ज्यादा सावधान रहना होगा। उन लोगों से, जो अभी आपके कुर्सी पर बैठने से पहले आपकी “घेराबंदी’ में जुट गए हैं। उस कॉकस (गठजोड़) से भी सावधान रहना होगा, जो अफसर-बिल्डर-नेता और गुंडों से मिलकर बनकर बना है। जो देर सबेर नगर सरकार के मुखिया को घेरेबंदी में ले लेता है। उस ब्यूरोक्रेसी से विशेष तौर पर सावधान रहना होगा...जो आप जैसे व्यक्तित्व को शहर के प्रथम नागरिक के रूप में देखना ही नहीं चाहती थी और न अब आपको हजम कर पा रही है। यह ब्यूरोक्रेसी अब भी ये ही चाहती है कि उसका निगम पर भी कब्जा कायम रहे। जैसा अब तक बना हुआ है। उन सलाहकारों से भी सावधान रहना जो सलाह के नाम पर अपने एजेंडे सेट करने की मंशा पाले हुए हैं। हां, उन दर्जनों “जांचतबाजो’ से भी होशियार रहना, जो आपकी सफलता में अपने आपको एक ही कार्यकाल में आर्थिक रूप से “सफल’ कर लेना चाहती है। उन नेताओं से भी सावधान रहना जो आपको शागिर्द बनाने पर आमादा हैं। निगम में व्याप्त भारी भ्रष्टाचार पर भी सावधान रहना। आप पर आंच न आए, ऐसा तंत्र विकसित करना। एमआईसी के मुद्दों पर भी सावधान रहना। टेंडर प्रक्रिया पर होशियार रहना। उन ठेकेदारों से सावधान रहना जो रिश्वत के दम पर निगम को अपनी जेब में रखने का दावा किए बरसों से निगम में काबिज हैं। सावधान रहना...अपनी छवि को लेकर। अपनी मति और गति को लेकर। अपने उज्ज्वल भविष्य को लेकर। उस विश्वास के प्रति, जो संघ-संगठन-सरकार ने आपके प्रति व्यक्त किया है, और इस शहर और यहां के बाशिंदों के प्रति... जिन्होंने आपको सबसे कठिन चुनाव में तमाम दबाव-प्रभाव-प्रलोभन से परे रहकर आपका चयन किया है। शहर का सपना न टूटने पाए। सावधान रहना... प्रिय मित्र-पुष्यमित्र।


All Comments

No Comment Yet!!


Share Your Comment


टॉप न्यूज़