https://khulasafirst.com/images/018b0c44750c0bcd6aa1df6cb8d422c9.png

Hindi News / State / 30 lakh children will get corona vaccine in the state

प्रदेश में 30 लाख बच्चों को लगेगी कोरोना की वैक्सीन : मध्यप्रदेश में 23 मार्च से

19-03-2022 : 03:59 pm ||

खुलासा फर्स्ट… 

संपादक

मध्यप्रदेश में 23 मार्च से 12 से 14 आयु वर्ग के बच्चों के लिए वैक्सीनेशन का बड़ा अभियान चलेगा। कुछ दिनों में अचानक गर्मी बढ़ने के कारण अभियान में बड़ा बदलाव किया जा रहा है। अब हर बच्चे को कॉर्बेवैक्स वैक्सीन लगाने से पहले ओआरएस का घोल दिया जाएगा। इसके बाद ही टीका लगाएंगे। यह व्यवस्था वैक्सीन लगने वाले सभी स्कूलों व हेल्थ सेंटर्स में की जा रही है। इससे बच्चों में डिहाइड्रेशन नहीं होगा। न ही उनकी तबीयत खराब होगी। प्रदेश में इस आयु वर्ग के 30 लाख से ज्यादा बच्चों को टीका लगाना है। तेज गर्मी के बीच धूप में बच्चे वैक्सीन लगाने पहुंचेंगे। ऐसे में गर्मी के कारण वे डिहाइ़ड्रेशन का शिकार हो सकते हैं। पसीना बहने से शरीर में शक्कर व नमक की मात्रा कम होने से वे बेहोश भी हो सकते हैं। ऐसे में उन्हें ओआरएस (ओरल रिहाइड्रेशन साल्ट) का घोल पिलाया जाएगा, ताकि शरीर में नमक-पानी की कम न हो। फिलहाल जिस तरह का मौसम है, उसे देखते हुए पालकों से अनुरोध किया जा रहा है कि बच्चों को नाश्ता या कुछ खिलाकर ही सेंटर ले जाएं। पानी की मात्रा उनके शरीर में रहे, इसका भी खास ध्यान रखें। इसके बाद ही उन्हें कॉर्बेवैक्स वैक्सीन की पहली डोज लगवाएं। घर से बच्चों को कुछ खिलाने व पानी की पिलाकर लाने के साथ हर सेंटर्स में भी पानी व ओआरएस की व्यवस्था की गई है। वहीं आने वाले दिनों में गर्मी और बढ़ेगी। केंद्र सरकार की तरफ से सेंट्रल कोविड पोर्टल में साफ निर्देश हैं कि 12 से 14 आयु वर्ग के बच्चों को ही यह टीका लगेगा। इस आयु वर्ग में 2008 व 2009 में पैदा हुए बच्चों के साथ 15 मार्च 2010 तक जो बच्चे 12 साल पूरा कर रहे हैं, वे ही इसके पात्र होंगे। इससे एक दिन कम आयु के बच्चों को भी अभी टीका नहीं लगाया जाएगा। टीका लगवाने वाले बच्चों के बर्थ सर्टिफिकेट की एक कॉपी जरूर सेंटर लेकर जाएं, उसे देखकर ही उन्हें टीका लगाया जाएगा। अभियान को लेकर हेल्थ डिपार्टमेंट के आला अफसरों की तरफ से शहर से लेकर गांव तक के पालकों को जागरूक किया जा रहा है। हेल्थ वर्कर व आशा कार्यकर्ताओं के साथ ही रेडियो व सोशल मीडिया के जरिए भी बच्चों का वैक्सीनेशन कराने को लेकर प्रेरित किया जा रहा है। समाचार पत्र व न्यूज के माध्यम से यह भी बताया जा रहा है कि अब तक जिन 15 से 17 साल तक के बच्चों को वैक्सीन लगी है, उन्हें अब तक कोई भी परेशानी या बीमारी या दिक्कत नहीं हुई है। यह टीका पूरी तरह से सुरक्षित हैं।


All Comments

No Comment Yet!!


Share Your Comment


टॉप न्यूज़