• Hindi News
  • Indore
  • Action started at many places in Indore-Bhopal in the morning, important documents of income of both the institutions were found  

बड़ी कर चोरी का हो सकता है खुलासा कौटिल्य एकेडमी पर इनकम टैक्स का छापा : अलसुबह इंदौर-भोपाल में कई ठिकानों पर शुरू की कार्रवाई, दोनों ही संस्थाओं की आय के महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले

25-11-2021 12:48:56
अलसुबह इंदौर-भोपाल में कई ठिकानों पर शुरू की कार्रवाई, दोनों ही संस्थाओं की आय के महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले

खुलासा फर्स्ट, इंदौर। आयकर विभाग ने इंदौर के डिजियाना ग्रुप, कौटिल्य एकेडमी और गुडरिक समूह पर गुरुवार तड़के छापा मारा। इंदौर-भोपाल में डिजियाना ग्रुप के ठिकानों पर एक साथ टीमें पहुंची और कार्रवाई शुरू की। कौटिल्य एकेडमी के दफ्तर और संचालक श्रीधांत जोशी के घर पर जांच की गई। आयकर विभाग को दोनों समूहों में बड़ी कर चोरी की सूचना मिली है। सुबह 6 बजे आयकर विभाग की टीमों ने इंदौर और भोपाल में एक साथ यह कार्रवाई शुरू की तो हड़कंप मच गया। सुखदेवसिंह घुम्मन व परिवार द्वारा चलाए जाने वाले डिजियाना ग्रुप केबल नेटवर्क, न्यूज चैनल, फिल्म निर्माण, खनन, सुपर मार्केट चेन सहित कई व्यवसाय में जुटा है।

घुम्मन परिवार के विष्णुपुरी स्थित घर सहित ग्रुप के इंदौर और भोपाल के करीब एक दर्जन ठिकानों पर कार्रवाई जारी है। वहीं भंवरकुआं स्थित कौटिल्य एकेडमी में आयकर अफसरों ने छानबीन शुरू की। आयकर विभाग के सूत्रों की मानें तो यहां लॉकडाउन के दौरान कोचिंग बंद रहने का हवाला दिया गया, लेकिन इस दौरान ऑनलाइन कोचिंग के नाम से वसूली गई फीस की जानकारी छुपाई गई। खबर लिखे जाने तक दोनों समूहों के ठिकानों पर कार्रवाई जारी थी। विभागीय सूत्रों का कहना है कि कार्रवाई एक-दो दिन तक जारी रह सकती है। बड़ी टैक्स चोरी की आशंका में छापे मारे गए हैं। कार्रवाई पूरी होने पर टैक्स वसूली का आंकड़ा स्पष्ट हो पाएगा।

कार्रवाई के दौरान क्लास की छुट्टी

सुबह आयकर टीम एक बस से कार्रवाई के लिए दोनों ही समूह के घर और कार्यालयों पर पहुंची। कौटिल्य एकेडमी के भंवरकुआं स्थित संस्थान पर टीम पहुंचने के साथ पूरे परिसर को कब्जे में ले लिया। इस दौरान वहां चल रही क्लास की भी छुट्टी कर दी गई। पुलिस ने सबसे पहले विद्यार्थियों को वहां से रवाना किया। इसके बाद टीम ने शिक्षकों और कर्मचारियों को वहीं रोक लिया। इस दौरान पुलिस ने इन लोगों तक नाश्ता भी पहुंचाया।

शहर के प्रसिद्ध कोचिंग संस्थान और मीडिया समूह पर आज सुबह आयकर विभाग ने छापामार कार्रवाई की। जानकारी के मुताबिक आयकर विभाग के अधिकारियों को सूचना मिली थी कि दोनों ही समूह के संचालक अपनी आय छिपाकर सरकार को हानि पहुंचा रहे हैं। इसी आधार पर आयकर टीम आज सुबह कोचिंग संस्थान कौटिल्य एकेडमी के साथ मीडिया समूह डिजियाना पर छापामार कार्रवाई की। 

दोनों ही संस्थानों के अलग-अलग शहरों में स्थित कार्यालयों पर एक साथ कार्रवाई जारी है। इंदौर में कौटिल्य एकेडमी के भंवरकुआं स्थित कार्यालय पर सुबह से ही पुलिस के साथ आयकर विभाग की टीम पहुंच गई। जानकारी के मुताबिक आयकर विभाग को दोनों ही संस्थाओं के आय के संबंध में महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले हैं, जिसकी जांच की जाएगी। गुरुवार सुबह से छापामार कार्रवाई के दौरान जांच जारी है। 

पूरे देश में कुल 65 ठिकानों पर एकसाथ की कार्रवाई

आयकर विभाग इंदौर की इंवेस्टिगेशन विंग ने गुरुवार अलसुबह मीडिया, खनन, एफएमसीजी और कोचिंग संचालकों के ठिकानों पर छापेमार कार्रवाई की। कर चोरी और आय छुपाने की सूचना के बाद विभाग ने इंदौर केंद्रीत डिजियाना ग्रुप, गुडरिक समूह और कौटिल्य एकेडमी पर एक साथ छापे मारे। इंदौर में कुल 50 जगहों पर जांच चल रही है। शहर और राज्य के बाहर विभाग ने 65 ठिकानों को जांच के दायरे में लिया है। जानकारी के मुताबिक आयकर विभाग के अधिकारियों को सूचना मिली थी कि दोनों ही समूह के संचालक अपनी आय छुपाकर सरकार को हानि पहुंचा रहे हैं। 

पीएचक्यू से आया 170 पुलिसकर्मियों का विशेष बल

    आयकर विभाग की इंवेस्टिगेशन विंग सुबह करीब 6 बजे खनन, शराब,मीडिया के साथ ही एफएमसीजी कारोबार से जुड़े डिजियाना समूह के साथ कोचिंग समूह कौटिल्य एकेडमी और गुडरिक चाय से जुड़े मोहन लुधियानी के  ठिकानों पर जांच के लिए पहुंची है। इंदौर इंवेस्टिगेशन विंग ने खामोशी और गोपनीय तरीके से रेड को अंजाम दिया। कार्रवाई के दायरे में कई प्रभावशाली समूह आ रहे हैं इसलिए बाहर के पुलिस बल की मदद कार्रवाई के दौरान ली गई। विभाग के सूत्रों के अनुसार पुलिस मुख्यालय भोपाल से 170 से ज्यादा पुलिसकर्मियों का विशेष बल मुहैया करवाया गया है। इंंदौर के साथ ही अन्य शहरों में भी जांच चल रही है। उत्तरप्रदेश, बंगाल और गुजरात में भी इन समूहों से जुड़े दफ्तर और ठिकानों पर टीमें भेजी गई है। विभाग के अधिकारियों ने कार्रवाई को लेकर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है।

 इस बीच सूत्र बता रहे हैं कि अघोषित आय और कर चोरी का पता लगाने के लिए जांच शुरू की गई है।  बीते महीने काम्पटिशन कमीशन आफ इंडिया की इंदौर के शराब सिंडिकेट पर कार्रवाई हुई थी। जांच में ठिकानों से मिले दस्तावेजों के आधार पर अलग-अलग जगहों पर टीम भेजी जा रही थी। खंडवा रोड, पिपल्याहाना, बायपास के साथ भंवरकुआ और पलासिया क्षेत्र के दफ्तरों पर टीम पहुंची है। भोपाल, उज्जैन और ग्वालियर में भी कुछ ठिकाने जांच के दायरे में है। इंदौर इंवेस्टिगेशन विंग के साथ आयकर के भोपाल व अन्य शहरों के अधिकारियों की टीमें भी जांच में लगाई गई हैं। 

प्रदेश की सबसे बड़ी कोचिंग

मध्यप्रदेश का दिल कहा जाने वाला इंदौर एजुकेशन हब बन चुका है। यहां दूर-दराज से कई बच्चे सपने लिए पढ़ने आते हैं और शहर के प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेश लेते हैं। इंदौर शहर में तकरीबन सभी पाठ्यक्रम की पढ़ाई होती है। कौटिल्य एकेडमी प्रदेश भर में प्रतियोगी परीक्षाओं और प्रशासनिक परीक्षाओं की तैयारी के लिए अपनी पहचान बना चुकी है। इसके शहर और प्रदेश में करीब 40 से ज्यादा सेंटर बने हुए हैं। इंदौर में सेंटर पर एमपीपीएससी के साथ सीए,गेट से लेकर कई प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी होती है। 

पहले भी इंदौर में कोचिंग पर हो चुकी है कार्रवाई 

गौरतलब है कि कुछ वर्ष पूर्व भी कौटिल्य एकेडमी पर छापे की कार्रवाई की गई थी । इसमें डायरेक्टर जनरल सेंट्रल एक्साइज इंटेलीजेंस (डीजीसीईआई) की टीम संस्थान के भंवरकुआं स्थित मुख्य ऑफिस के साथ राजवाड़ा और प्रेस कॉम्प्लेक्स स्थित परिसर में पहुंची थी। अधिकारियों ने रजिस्टर, कम्प्यूटर रिकॉर्ड, बहीखाते, फीस लेन-देन का रिकॉर्ड कब्जे में लिया। कर्मचारियों के साथ छात्रों के पंजीयन और कक्षा की उपस्थिति की जांच भी की गई। प्रारंभिक तौर पर छात्रों के रजिस्ट्रेशन और कक्षा में दर्ज संख्या में खासा अंतर होने के तथ्य अधिकारियों के हाथ लगे थे।

प्रख्यात कोचिंग इंस्टीट्यूट कौटिल्य एकेडमी पर छात्रों द्वारा अदा किया गया टैक्स हड़प जाने का आरोप था। कोचिंग संचालकों ने छात्रों से तो टैक्स वसूला, लेकिन सरकारी खजाने में जमा नहीं करवाया। शहर की कोचिंग इंडस्ट्री पर सर्विस टैक्स चोरी के मामले में यह दूसरी बड़ी कार्रवाई है। करीब दो साल पहले मेडिकल कोचिंग से जुड़े संस्थान ब्रेनमास्टर्स पर भी कार्रवाई की गई थी। तब बड़ी टैक्स चोरी का आंकड़ा सामने आने पर संचालक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। दरअसल, 50 लाख से ज्यादा की सर्विस टैक्स चोरी पर गिरफ्तारी का प्रावधान भी है।


इसी कड़ी में यह भी पढ़े